बिहार राज्य खेल नीति के निर्माण से सम्बंधित प्रमुख बिन्दुओं पर दो वित्तीय वर्ष (2018-20) - अल्प अवधि, चार वित्तीय वर्ष (2018-22) - मध्यम अवधि एवं बारह वित्तीय वर्ष (2018-30) - दीर्घ अवधि तक की कार्य योजना तैयार किये जाने हेतु कला संस्कृति एवं युवा विभाग, बिहार द्वारा देश/राज्य एवं अन्य स्तर के खिलाडियों, प्रशिक्षकों, खेल विशेषज्ञों, खेल प्रशासकों एवं खेल प्रेमियों से 28 फरवरी, 2018 तक निम्नांकित बिन्दुओं पर परामर्श एवं सुझाव आमंत्रित किए जाते है -

 

  1. राज्य में खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्राथमिकता के आधार पर आधिकारिक खेलों का वर्गीकरण.
  2. राज्य खेल नीति में लघु अवधि, मध्यम अवधि एवं दीर्घ अवधि के कार्य योजना के सम्बन्ध में.
  3. राज्य में युवाओं की खेलों में अधिकाधिक सहभागिता हेतु योजना.
  4. अत्याधुनिक अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल अवसंरचना का निर्माण एवं खेल उपकरणों की उपलब्धता.
  5. खेल अकादमी, गैर-आवासीय प्रशिक्षण एवं वैज्ञानिक पद्धतियुक्त प्रशिक्षण.
  6. खेल विशेषज्ञों, स्पोर्ट्स मेडिसिन एवं रिहैबिलिटेशन विशेषज्ञों की उपयोगिता एवं कार्यशाला.
  7. अंतर्राष्ट्रीय खेलों में बिहार के खिलाडियों का प्रतिनिधित्व हेतु मिशन मोड में कार्य योजना.
  8. खेलों के विकास हेतु सरकारी उपक्रम/कॉर्पोरेट संस्थानों के माध्यम से राज्य में खेल अकादमियों का विकास.
  9. विद्यालयों, महाविद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों में खेल गतिविधियों को बढ़ावा देने एवं शारीरिक शिक्षा शिक्षकों की गुणवत्ता बढ़ाने एवं अधिक उपयोगी बनाये जाने के संबंध में कार्य योजना.
  10. राज्य में निर्मित स्टेडियम एवं खेल मैदानों का प्रतिस्पर्धात्मक खेलों में प्रतिभागिता बढ़ाने हेतु खिलाड़ियों एवं युवाओं के बेहतर उपयोग किये जाने की कार्य योजना के सम्बन्ध में.
  11. राज्य में खेलों के विकास हेतु राज्य सरकार, बिहार राज्य खेल प्राधिकरण एवं राज्य खेल संघों के बीच बेहतर समन्वय हेतु परामर्श.